Sunday, 16 December 2018

विभाग द्वारा जनसामान्य को उपलब्ध कराये जाने वाली

योजनाओं/सुविधाओं का विवरण

 

1- जिला सैक्टर की योजना

(क) औद्यानिक विकास:- इस योजना के अन्तर्गत कृषकों को 50 प्रतिशत राजसहायता पर उद्यान स्थापना हेतु फल पौध जैविक रसायन, उर्वरक आदि उपलब्ध कराये जाते हैं राजसहायता की अधिकतम धनराशि रू 5000.00 देय है।

(ख) आलू विकास:- इस योजना के अन्तर्गत अनुसूचित जाति के कृषकों को निवेशों के रूप में रू0 20000.00 की दर से प्रति है0 राजसहायता दी जाती है, प्रति प्रदर्शन रू0 300.00 व्यय का प्राविधान है।

(ग) सब्जी विकास:- इस कार्यक्रम के अन्तर्गत अनुसूचित जाति के कृषकों को निःशुल्क सब्जी बीज प्रदर्शन दिया जाता है।

(घ) मशाला प्रर्दशन:- मशाला उत्पादन को बढावा देने हेतु अदरख, हल्दी, लहसून आदि के प्रदर्शन 50 प्रतिशत राजसहायता पर दिये जाने का प्राविधान है।

(ड़) औद्यानिक औजार संयन्त्र वितरण:- इस योजना के अन्तर्गत कृषकों को 50 प्रतिशत राजसहायता पर औद्यानिक औजार संयन्त्र दिये जाने का प्राविधान है।

(य) फसल सुरक्षा कार्यक्रम:- जनपद रूद्रप्रयाग जैविक जनपद घोषित होने के कारण कीटव्याधि की रोकथाम हेतु जैविक रसायनों का प्रयोग किया जाता है। साथ ही जैविक उर्वरक भी प्रयोग किये जाते हैं। किसानों को विभिन्न योजनाओें के अन्तर्गत 60 प्रतिशत राजसहायता पर जैविक कीटव्याधिनाशक रसायन एवं जैविक उर्वरक उपलब्ध कराये जाते हैं।

(र) व्यक्तिगत उद्यानों में सिंचाई व्यवस्था:- इस योजना के अन्तर्गत कृषकों के उद्यानों में सिंचाई व्यवस्था हेतु 75 प्रतिशत राजसहायता पर सिंचाई टैंक निर्माण (3x2x1.5 मीटर) करवाये जाते हैं।

(ल) चयनित विकासखण्डों में महिलाओं का औद्यानिक प्रशिक्षण:- इस योजना के अन्तर्गत चयनित विकासखण्डों में महिलाओं को 07 दिवसीय औद्यानिक प्रशिक्षण दिया जाता है। जिसमें 50 रूपया प्रति दिन की दर से 350 रू0 की छात्रवृति धनराशि से प्रोत्साहन के रूप में दी जाती है। प्रशिक्षण कार्यक्रम के अन्तर्गत फलों से निर्मित पदार्थ जैसे चट्टनी,अचार,मुर्बा,सक्वाईस बनाने की जानकारी दी जाती है।

 

2- राज्य सैक्टर योजना

 

(क) बेमौसमी सब्जी प्रदर्शन:- इस योजना के अन्तर्गत 0.02 हैक्टयर क्षेत्रफल हेतु निःशुल्क हाईब्रीड सब्जी प्रदर्शन दिये जाते हैं। प्रति प्रदर्शन लागत रू0 300.00 है।

(ख) उद्यानों की घेरबाड़:- इस योजना के अन्तर्गत 1.00 हैक्टयर क्षेत्रफल में फलदार पौधों की सुरक्षा हेतु 75 प्रतिशत राजसहायता पर घेरबाड़ की जाती है। जिसमें अधिकतम धनराशि रू0 49950.00 प्रति हैक्टयर राजसहायता दिये जाने का प्राविधान है।

(ग) मशाला व्यवर्तनीकरण:- इस योजना के अन्तर्गत मशाला की खेती जैसे-अदरख, लहसुन की खेती के लिए 25 प्रतिशत राजसहायता अधिकतम रू 7500.00 प्रति हैक्टयर की दर से दिये जाने का प्राविधान है।

(घ) मौन पालन योजना:- इस योजना के अन्तर्गत कृषकों को 07 दिवसीय मौन पालन प्रशिक्षण दिया जाता है। प्रशिक्षण के दौरान रू0 50.00 प्रति दिन की दर से कुल 350.00  रू0 की छात्रवृति देय है। प्रशिक्षण के उपरान्त कृषकों को मौनगृह और मौनवंश क्रय करने पर अधिकतम 50 प्रतिशत रू0 800.00 प्रति बाॅक्स की दर से राजसहायता देय है।

 

3- केन्द्रपोषित (एच0एम0एन0ई0एच0) योजना

(क) उद्यान क्षेत्रफल विस्तार:- इस योजना के अन्तर्गत फल पौध रोपण हेतु 50 प्रतिशत राजसहायता प्रति हैक्टयर रू0 30000.00 की धनराशि 3   वर्षों के लिए व्यय किये जाने का प्राविधान है।

(ख) ओन फार्म जल प्रबन्धन:- इस योजना के अन्तर्गत कृषकों को टपक सिंचाई/स्प्रिंगलर सिंचाई/प्लास्टिक मल्चिंग/पाॅलीहाउस निर्माण/ओला अवरोधक जाली आदि पर 50 प्रतिशत से 80 प्रतिशत राजसहायता दी जाती है।

(ग) उन्नत किस्म की रोपण सामग्री का उत्पादन:- इस योजना के अन्तर्गत कृषकों को 0.20 हैक्टयर क्षेत्रफल की नर्सरी मेें 1.00 लाख फल पौध उत्पादन हेतु 50 प्रतिशत राजसहायता धनराशि रू0 1.50 लाख रू0 तक दिये जाने का प्राविधान है।

(घ़) तकनीकी स्थानान्तरण:- इस योजना के अन्तर्गत जनपद स्तर पर/प्रदेश के अन्दर/प्रदेश के बाहर भ्रमण प्रशिक्षण कार्यक्रम किया जाता है, प्रदेश के अन्दर सात दिवसीय प्रशिक्षण हेतु रू0 1500.00/कृषक एवं प्रदेश के बाहर रू0 2500.00 प्रति कृषक व्यय किये जाने का प्राविधान है।

(ड़) जैविक कृषि को प्रोत्साहन:- जैविक कृषि को बढावा दिये जाने हेतु वर्मी कम्पोस्ट इकाई (30ग8ग2.5 फीट) के निर्माण हेतु 75 प्रतिशत राजसहायता (50 प्रतिशत केंन्द्रांश एवं 25 प्रतिशत राज्य सैक्टर से) रू0 75000.00 प्रति इकाई राजसहायता दिये जाने का प्राविधान है।

(च) कृषि उपकरणों को प्रोत्साहन:- इस योजना के अन्तर्गत कृषि उपकरणों पर राजसहायता दिये जाने का प्राविधानप है। पावर चलित संयन्त्र स्प्रेयर पर रू0 5000.00 प्रति इकाई, डीजल इंजन पर रू0 9000.00 प्रति इकाई, पावर टिलर पर रू0 45000.00 प्रति इकाई, हस्तचलित संयन्त्रों पर रू0 1500.00 प्रति इकाई।

(छ) मौनगृह एवं मौनवंश वितरण:- इस योजना के अन्तर्गत 40 प्रतिशत अधिकतम रू0 (800 + 800) = 1600.00 प्रति मौनगृह एवं मौनवंश अधिकतम 50 मौनगृह एवं मौनवंशों पर राजसहायता देय है।

(ज) मशरूम उत्पादन:- मशरूम उत्पादन के सम्बन्ध में कृषकों को मशरूम उत्पादन की नवीनतम तकनीकी जानकारी दी जाती है। निःशुल्क मशरूम प्रशिक्षण एवं स्पाॅन तथा कम्पोस्ट 50 प्रतिशत अनुदान पर दिया जाता है।

4- फसल बीमा योजना

इस योजना के अन्तर्गत एग्रीकल्चर इंन्सूरेन्स आॅफ इंण्डिया लि0 कम्पनी द्वारा संचालित मौसम आधारित फसल बीमा योजना रबी 2015-16 से सम्बन्धित मौसम कारकों जैसेः- अभिशीतता, तापमान, कम वर्षा, अधिक वर्षा, वेमौसमी वर्षा, हवा की गति एवं आर्द्रता के विपरीत प्रभाव से सेब, आडू, माल्टा की फसल में पैदावार की सम्भावित हानि होने के कारण कृषकों को होने वाला वित्तीय नुकशान की भरपाई की जाती है। इस जनपद में संसूचित निम्न फसलें एवं प्रीमियम राशि निम्न प्रकार है।

1- सेब फसल:- सेब फसल के लिए देय प्रिमियम 06 प्रतिशत आयु 5-15 वर्ष के लिए प्रिमियम/प्रतिवृक्ष रू0 60, आयु सीमा 16-40 वर्ष प्रिमियम प्रति वृक्ष रू0 120.00 निर्धारित किया गया है।

2- माल्टा/आडू फसल:- देय प्रिमियम 5.50 प्रतिशत आयु सीमा 5-10 वर्ष के लिए रू0 27.50 आयु सीमा 11-25 वर्ष रू0 55.00 प्रिमियम प्रति वृक्ष निर्धारित किया गया है। इस योजना के अन्तर्गत जनपद में सब्जी एवं मशाला की फसलों को फसल बीमा योजनान्तर्गत समलित नहीं किया गया है।

 

लीज पर दिये गयें उद्यानों का आय/व्यय विवरण जनपद-रूद्रप्रयाग

 

 लीज से पूर्व दो वर्षों एवं वापसी के बाद दो वर्षां की आय एवं व्यय का विवरण

क्रं0

सं0

उद्यान लीज पर दिये जाने की तिथि राजकीय उद्यानों के नाम उद्यानों के आय/व्यय का विवरण विभाग में वापसी की वर्ष उद्यान वापसी के दो वर्षों के बाद आय/व्यय का विवरण
आय व्यय
वेतन आ0व्यय वर्ष आय व्यय
वेतन आ0व्यय
1- 21-09-2003 राजकीय उद्यान चिरबटिया                
o’kZ 2001&02 esa :Ik;k vk; 11920 419945 7717 12-08-2010 2011&12 & & &
o’kZ 2002&03 esa :Ik;k vk;k 130830 332748 2540 & 2012&13 & & &
vxLr 2010 esa ftyk Hks’kt la?k :nziz;kx }kjk jktdh; m|ku fpjcfV;k dks LFkkukUrfjr djrs le; m|ku th.kZ”kh.kZ fLFkfr esa Fkk] m|ku Qy ikS/k mRiknu@lCth cht@lCth ikS/k mRiknu djuk lEHko ugha Fkk] u gh tuin esa i;kZIr deZpkjh miyC/k ugha Fks] ftlls mRiknu dk;Z djuk lEHko ugha FkkA dk;Z;kstuk funs”kky; dks Hksth x;h Fkh] ftlds lkis{k /kujkf”k vkoaVu u gksus ds dkj.k o’kZ 2013&14 rd dksbZ mRiknu ugha gqvk] ftl dkj.k 2011&12 ls 2013&14 rd dksbZ vk; izkIr ugha gks ldh] “kklu ds i= la[;k 0842 xii(ii) 2013&14(8)@2013 d`f’k ,oa foi.ku vuqHkkx&2 nsgjknwu fnukad 02 flrEcj ds ifjikyu esa mDr m|ku fnukad 21-09-2013 dks vkS|kfud egkfo|ky; Hkjlkj dks gLrkukUrfjr&
¼d½   yht ls iwoZ nks o’kksZa ,oa okilh ds ckn nks o’kkZa dh vk; ,oa O;; dk fooj.k

dza0

la0

m|ku yht ij fn;s tkus dh frfFk jktdh; m|kuksa ds uke m|kuksa ds vk;@O;; dk fooj.k foHkkx esa okilh dh o’kZ m|ku okilh ds nks o’kksZa ds ckn vk;@O;; dk fooj.k
vk; O;;
osru vk0 O;; o’kZ vk; O;;
osru vk0 O;;
2- 27-12-2003 jktdh; m|ku f?kerksyh                
o’kZ 2001&02 esa :Ik;k vk; 24041 518429 8864 vkfrfFk rd ugha & & & &
o’kZ 2002&03 esa :Ik;k vk;k 194038 642257 2812   & & & &
eS0XykbZdkst bafM;k :nziqj ds v/khu m|ku vkt rd yht ij gSA
¼d½   yht ls iwoZ nks o’kksZa ,oa okilh ds ckn nks o’kkZa dh vk; ,oa O;; dk fooj.k

dza0

la0

m|ku yht ij fn;s tkus dh frfFk jktdh; m|kuksa ds uke m|kuksa ds vk;@O;; dk fooj.k foHkkx esa okilh dh o’kZ m|ku okilh ds nks o’kksZa ds ckn vk;@O;; dk fooj.k
vk; O;;
osru vk0 O;; o’kZ vk; O;;
osru vk0 O;;
3- flrEcj 2004 jktdh; m|ku vxLR;eqfu                
o’kZ 2002&03 esa :Ik;k vk; 83827 61707 1646 uoEcj 2007 2008&09 19470 & 150305
o’kZ 2003&04 esa :Ik;k vk;k 27346 65393 1952   2009&10 15015

185893

68746

पता

निदेशालय उद्यान एवं खाद्य प्रसंस्करण, उत्तराखण्ड,

उद्यान भवन, चैबटिया-रानीखेत, अल्मोड़ा उत्तराखण्ड

दूरभाश- 05966-220260 / 222792

हमारा स्थान

चित्र प्रदर्शनी